Wednesday, 8 September 2010

football


football का मौसम तो बीत गया लेकिन फिर भी खेला जा सकता है...क्या हुआ जो net football से भी छोटा है...let 's play...

4 comments:

ASHOKKUMAR said...

Very nice Chulbul... I am very happy to your Blog... Wish you all the best and i wish to see more in future... Kisses !!... ashok

रावेंद्रकुमार रवि said...


बिल्कुल सही बात है -
खेलना तो फुटबॉल ही है,
नेट से क्या लेना-देना!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

सचमुच, आपकी पोस्ट बहुत बढ़िया है।
--
इसकी चर्चा बाल चर्चा मंच पर भी है!
http://mayankkhatima.blogspot.com/2010/09/16.html

SPARSH said...

akele akele kyon khel rahi ho mujhe bula leti to dono milke khelte. Bara maja aata na jaise us din paison ki barsaat mein aaya tha.