Wednesday, 6 October 2010

mere daat

क्या  कहू  आजकल मेरी भी यही परेशानी है....दरअसल मेरे सामने के दो दाँत टूट गए है और दो टूटने कि तैयारी कर रहे है...अब जिसे देखो वही पहले मुझे कहता है..'चुलबुल अपने दाँत दिखाओ' और जब दिखाती हू तो.....हा..हा...हा.....हँसना शुरू कर देते है...अब कैसे बताऊ इन  हसने वालो को कि 'आपके भी कभी टूटे होंगे.....दाँत' 

4 comments:

माधव( Madhav) said...

nice

रानीविशाल said...

कोई बात नहीं दी हँसने वालों को हँसने दो जीवन के हर रूप की अपनी ही सुन्दरता होती है .....आप जब और भी बड़ी हो जाओगी तोअपनी ऐसी तस्वीरों को खुद सहेजोगी :)
नन्ही ब्लॉगर
अनुष्का

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

कोई चिन्ता मत करना!
नये दाँत जल्दी ही आ जायेंगे!
--
आपकी इस पोस्ट की चर्चा
बाल चर्चा मंच पर भी की गई है!
http://mayankkhatima.blogspot.com/2010/10/21.html

चैतन्य शर्मा said...

main to soch raha hun tum kitni cute lag rahi hogi ajkal..... mujhe bhi hansi aa rahi...par yeh din sab bachho ke aayenge... mere bhi...