Thursday, 16 October 2008

देखी है कही ऐसी मुच्छें.....


मुच्छें हों तो नत्थू लाल जी जैसी वरना न हों..........
मेरे पापा बिल्कुल ऐसी ही मुच्छें बनाते हैं पुलिस अंकल की...

5 comments:

संजय बेंगाणी said...

सुन्दर चित्र बनाया है. मुच्छें तो कमाल की बनाई है.

seema gupta said...

'wow, sach kha , good art'

god bless you ya

neeshoo said...

मुछें तो अच्छी बनायी ।

Udan Tashtari said...

क्या मूँछ है!!! बहुत बढ़िया बनाया.

जितेन्द़ भगत said...

हूँ, मूछ तो कमाल की है।