Thursday, 24 June 2010

hay bijli

ये  तो  दो  घंटे  मे  ही परेशान  हों  गए ...हमलोग  तो  पिछले  पांच  दिनों  से  गर्मी और बिजली  दोनों की   मुसीबत  झेल  रहे  है ....

4 comments:

SPARSH said...

Dear chulbul, Your cartoon is better than your Papa. Ask Hindustan to replace him by you.

Akshita (Pakhi) said...

Beautiful....!!


***************************
'पाखी की दुनिया' में इस बार 'कीचड़ फेंकने वाले ज्वालामुखी' !

nidhu said...

hey babu nice painting..
papa ko competition dene ki tayari hai kya??

दीनदयाल शर्मा said...

बच्चों के लिए देश का पहला अखबार है...टाबर टोली..अगर चुलबुल की मम्मी या पापा इज़ाज़त दें तो चुलबुल के बनाये चित्र टाबर टोली में देना चाहते हैं... टाबर टोली का अपना ब्लॉग भी है...मुझे प्रतीक्षा है...उत्तर की...कृपया ई मेल या फिर ब्लॉग टाबर टोली या मेरे ब्लॉग पर स्वीकृति भेजें...taabartoli.blogspot.com deendayalsharma.blogspot.com