Monday, 14 June 2010

pandit ji

अब  और  क्या  खिलाऊ ......

4 comments:

indli said...

नमस्ते,

आपका बलोग पढकर अच्चा लगा । आपके चिट्ठों को इंडलि में शामिल करने से अन्य कयी चिट्ठाकारों के सम्पर्क में आने की सम्भावना ज़्यादा हैं । एक बार इंडलि देखने से आपको भी यकीन हो जायेगा ।

अक्षिता (पाखी) said...

ही..ही..ही..मजेदार !!

Udan Tashtari said...

हा हा! पाखी बिटिया के साथ मुझे भी खूब मजेदार लगा.

SPARSH said...

Nice one.