Sunday, 6 March 2011

.मोटू सेठ

आप लोगो ने भी जरुर ये कविता गयी होगी....जब आप भी छोटे बच्चे थे....

3 comments:

Akshita (Pakhi) said...

हा..हा..हा..मजेदार. कभी-कभी दूसरों के ब्लॉग पर भी घूम आया करो आप.


_______________
पाखी बनी परी...आसमां की सैर करने चलेंगें क्या !!

चैतन्य शर्मा said...

मजेदार.....

SPARSH said...

बहुत अच्छा