Tuesday, 15 March 2011

ढब्बू जी

पहचाना इन्हें...अरे भाई ये है अपने आबिद दादा के 'ढब्बू जी'...आबिद दादा जी ने मुझे अपनी किताब 'ढब्बू जी का धमाल' गिफ्ट किया था ...तो मैंने वही से देख कर ये drawing बनायीं है......कैसा लगा...है न दादा जी के ढब्बू जी  की तरह ही.. :)

3 comments:

PaWaN MiShRa said...

rashmi ji...ye apki daughter chulbul ne banayi hai kya?...achhi hai...

SPARSH said...

NICE CHULBUL

Patali-The-Village said...

बहुत सुन्दर...